Pages

Saturday, December 5, 2009

7) मेहनत (9th class)

तड़प रहा हू मैं ,
किसे कहू ? क्या कहू ?
कुछ मन में मेरे
उमड़ रहा है ,
पर वह क्या है ? कोई समझा दो !
मैं थक गया हू इस दुनिया से ,
या जीना चाहता हू अभी ?
मुझे खुद नहीं मालूम
कोई बतला दो !
ज़िन्दगी है चार दिन कि ,
या हजारो साल पड़े है ,
मेरे आगे बिताने को ?
मुझे मिलना है क्या आगे ?
कोई मिलवा दो !
इस अँधेरे में मुझे
जलती दीख रही
मेरी कुछ मेहनत है ,
उसको बचा लो तुम ,
चाहे मुझे जला दो !!!

No comments:

Post a Comment